आत्महत्या का विचार आए तो लें चिकित्सक से परामर्श

 आत्महत्या का विचार आए तो लें चिकित्सक से परामर्श

नींद न आना, घबराहट बेचैनी, चिड़चिड़ापन मानसिक समस्या के लक्षण

गायघाट बनहरा स्थित सीएचसी में बृहस्पतिवार को राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत शिविर का आयोजन किया गया।


मनोचिकित्सकों ने आत्महत्या का विचार आने पर चिकित्सक से परामर्श लेने की सलाह दी। इसमें 289 मरीजों की जांच कर परामर्श और दवाएं दी गं मुख्य अतिथि ब्लॉक प्रमुख कुदरहा अनिल दूबे ने कहा कि सरकार लोगों के स्वास्थ्य की चिंता कर रही है। इसके लिए लगातार शिविरों का आयोजन किया जा रहा है।विशिष्ट अतिथि मनोरोग विशेषज्ञ डॉ. एके दूबे ने बताया कि नींद न आना, तनाव, उलझन, घबराहट, बेचैनी, चिड़चिड़ापन, निराशा व आत्महत्या के विचार मानसिक सम जरूर लें। वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. आफताब रजा ने बताया कि महीने के दूसरे बृहस्पतिवार को मानसिक चिकित्सा शिविर का आयोजन किया जाता है। इसमें परामर्श दवाएं और मानसिक दिव्यांगता का प्रमाण पत्र दिया जाता है। कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की कायाकल्प अवॉर्ड योजना में चयनित स्वास्थ्यकर्मियों को सम्मानित किया गया। मौके पर डॉ. राकेश कुमार, डॉ. प्रियंका, हरि गोविंद द्विवेदी, दीनानाथ वर्मा, विजय कुमार, ओम प्रकाश, नीलम शुक्ला, सत्यम मिश्रा, निधि राव, संजय पटेल, सुजीत कुमार, अविनाश सिंह, नितिका श्रीवास्तव, रंजना, अनुपम, नीरज कुमार, परशुराम आदि मौजूद रहे।स्या के लक्षण हैं। ऐसे लक्षण दिखते ही चिकित्सक की परामर्श

0 Comments