Parivar Kalyan Card : यूपी में सभी परिवारों का बनेगा आधार जैसा कार्ड, जानें क्या-क्या फायदे

 Parivar Kalyan Card : यूपी में सभी परिवारों का बनेगा आधार जैसा कार्ड, जानें क्या-क्या फायदे (Parivar Kalyan Card: Aadhar-like card will be made for all families in UP, know what are the benefits)

Parivar Kalyan Card (परिवार कल्याण कार्ड) यूपी में योगी सरकार सभी परिवारों को एक यूनिक आईडी कार्ड देने जा रही है।

Parivar Kalyan Card kya h?. (परिवार कल्याण कार्ड क्या है?)

Parivar Kalyan Card kya h?. (परिवार कल्याण कार्ड क्या है?)

उत्तर प्रदेश।   'परिवार कल्याण कार्ड' से उत्तर प्रदेश के सभी परिवारों को जोड़ने का योजना तैयार किया जा रहा है। परिवार कल्याण कार्ड की संख्या 12 अंकों का होगा। इस कार्ड से सरकारी योजनाओं को जोड़ा जाएगा। किस परिवार को किस योजना का लाभ मिल रहा है या नहीं मिल रहा है, यह पता लगाने में इससे आसानी मिलेगी।

   इकनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, सीएम योगी आदित्यनाथ के सामने पिछले सप्ताह एक प्रजेंटेशन गया था, जिसमें इससे संबंधित पूरा ब्यौरा पेश किया था। फैमिली कार्ड (Parivar Card) के लिए राशन कार्ड के डेटा को आधार बनाया जाएगा। सरकारी सूत्रों ने मुताबिक, ''यदि हम राशन कार्ड को आधारा बनाते हैं, तो कुछ ही दिनों में 60 फीसदी परिवारो को इस योजना जोड़े जा सकेगे।''

Parivar Kalyan Card इसे प्रयागराज में इसे पायलट प्रॉजेक्ट के तौर पर लागू किया गया था। कार्ड कार्ड डेटा के आधार पर सरकार ने लाभार्थी परिवारों की पहचान की। इसने सरकार को यह भी डेटा उपलब्ध कराया कि किन परिवारों को सरकारी योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। सरकारी अधिकारियों का मानना है, इस कार्ड से फर्जी कार्डों पर रोक लगेगी और एक ही परिवार को बार-बार किसी योजना का लाभ मिलना बंद हो सका है। Parivar Kalyan Card के माध्यम से जो लोग अभी तक वंचित है उन्हें परिवार कल्याण कार्ड योजना से सीधा लाभ मिलेगा। 

What is IP Address ?

हर परिवार के एक सदस्य को नौकरी

2022 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने सत्ता में आने पर हर परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने का वादा किया था। फैमिली कार्ड (Parivar Card) के जरिए सरकार यह तय कर पाएगी कि किस परिवार को रोजगार मिल गया है और किस परिवार के किसी सदस्य के पास रोजगार नहीं मिला है।

  फैमिली कार्ड (परिवार कल्याण कार्ड) के जरिए सरकार की कई और सेवाओं को जोड़ा जाएगा। एक सरकारी सूत्र ने अनुसार, ''यदि परिवार के एक सदस्य का जाति प्रमाण पत्र बना है तो परिवार के किसी दूसरे सदस्य को यह आसानी से मिल सकता है। उसे आवेदन करने के लिए दस्तावेज नहीं देना होंगा।'' सरकार इसकी वैद्यता की भी जांच कर रही है। उत्तर प्रदेश के अधिकारियों को हरियाणा और कर्नाटक के मॉडल को भी परखने को कहा गया है। हरियाणा ने 'परिवार पहचान पत्र' और कर्नाटक ने 'कुटुंब कार्ड' जारी किया है। हरियाणा में फैमिली कार्ड के लिए राशन कार्ड डेटा का इस्तेमाल किया गया है, जैसा कि यूपी सरकार प्लान कर रही है।।।

0 Comments