PM Kisan Samman Nidhi योजना के अंतर्गत 4250 आयकर दाता किसानों से रू. 35574000 की वसूली की जाएगी।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत 4250 आयकर दाता किसानों से रू. 35574000 की वसूली की जाएगी। 

बस्ती।   जिलाधिकारी श्रीमती सौम्या अग्रवाल ने कलेक्ट्रेट सभागार में इसकी समीक्षा करके आयकर दाता किसानों को, जो पिछले वर्ष में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि प्राप्त किए हैं, को नोटिस जारी करने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा पीएम किसान सम्मान निधि के अंतर्गत जिले के 14 ब्लॉक में कुल 4707 आयकर दाता किसान चिन्हित किए गए हैं। इसमें से 457 किसानों ने सम्मान निधि की किस्त प्राप्त नहीं किया है।
 बैठक में उन्होंने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत पंजीकृत किसानों का ईकेवाईसी की समीक्षा किया। उन्होंने ब्लॉकवार प्रतिदिन का लक्ष्य निर्धारित किया है। उन्होंने उपनिदेशक कृषि को निर्देशित किया है कि वह प्रतिदिन किए गए ईकेवाईसी की रिपोर्ट उन्हें उपलब्ध कराएं। साथ ही इस में शिथिलता बरतने वाले कर्मचारियों की रिपोर्ट भी प्रस्तुत करें। जनपद में 217201 किसानों का ईकेवाईसी किया जाना है। उन्होंने कॉमन सर्विस सेंटर के जिला प्रबंधकों को निर्देशित किया है कि ग्रामवार कैंप लगाकर ईकेवाईसी कराना सुनिश्चित करें। इसके लिए प्रत्येक किसान से ईकेवाईसी करने पर रूपया 15 सीएससी संचालक ले सकेंगे।
PM Kisan Samman Nidhi

उन्होंने बहादुरपुर में 1450, बनकटी में 1800, बस्ती सदर में 1500, दुबौलिया में 800, गौर में 1250, हरैया में 1050, कप्तानगंज में 750, कुदरहा में 1275, परशुरामपुर में 1100, रामनगर तथा रुधौली में 800- 800, सल्टौआ गोपालपुर तथा विक्रमजोत में 1000 -1000, साऊघाट ब्लॉक में 900 कुल 15000 प्रतिदिन ईकेवाईसी करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।
 उन्होंने सीएससी संचालकों को निर्देशित किया कि प्रतिदिन ईकेवाईसी का लक्ष्य पूरा न करने पर उनके विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी। ईकेवाईसी न किए जाने से किसानों को अगली किस्त नहीं मिल पाएगी। इसके लिए सीएससी संचालक ही जिम्मेदार होंगे। उन्होंने कृषि विभाग के कर्मचारियों को भी निर्देशित किया कि कैंप लगने पर सभी सम्मान निधि प्राप्त करने वाले किसानों को कैंप में लाएं तथा उनका ईकेवाईसी कराना सुनिश्चित करें।
बैठक का संचालन उप निदेशक कृषि अनिल कुमार ने किया। इसमें उप जिलाधिकारी आनंद श्रीनेत, उपायुक्त एन.आर.एल.एम. रामदुलार विभागीय अधिकारी गण तथा कृषि विभाग के कर्मचारी उपस्थित रहे।

0 Comments